शिव आवाहन मंत्र

मंत्र

ॐ मृत्युंजय परेशान जगदाभयनाशन । तव ध्यानेन देवेश मृत्युप्राप्नोति जीवती ।।

वन्दे ईशान देवाय नमस्तस्मै पिनाकिने । नमस्तस्मै भगवते कैलासाचल वासिने । आदिमध्यांत रूपाय मृत्युनाशं करोतु मे ।।

मंत्र

त्र्यंबकाय नमस्तुभ्यं पंचस्याय नमोनमः । नमोब्रह्मेन्द्र रूपाय मृत्युनाशं करोतु मे ।। नमो दोर्दण्डचापाय मम मृत्युम् विनाशय ।।

मंत्र

देवं मृत्युविनाशनं भयहरं साम्राज्य मुक्ति प्रदम् ।       नमोर्धेन्दु स्वरूपाय नमो दिग्वसनाय च ।      नमो भक्तार्ति हन्त्रे च मम मृत्युं विनाशय ।।

मंत्र

अज्ञानान्धकनाशनं शुभकरं विध्यासु सौख्य प्रदम्   नाना भूतगणान्वितं दिवि पदैः देवैः सदा सेवितम्          सर्व सर्वपति महेश्वर हरं मृत्युंजय भावये ।।

मंत्र

दिव्य मंत्र में हम भगवान शिव को मृत्युंजय, ईशान, पिनाकिन, त्रयंबक, हर, महेश्वर जैसे नामों से पुकारते हैं। भगवान शिव को हर कहा जाता है क्योंकि वे भक्त के जीवन से कष्ट हर लेते हैं। उन्हें महेश्वर इसलिए बुलाया जाता है क्योंकि वे महान ईश्वर, देवताओं के देवता, ब्रह्मांड के नियंत्रक हैं। भगवान शिव ऐसे भगवान हैं जो सभी जानवरों में रहते हैं। उन्हें “पशुपति” भी कहा जाता है जो दर्शाता है कि वे सभी प्राणियों के भगवान हैं। हम सभी जानवर या “पशु” हैं और हमारे भगवान शिव हैं जो हमें नियंत्रित करते हैं, हम पर दया करते हैं। वे हम सब के प्रभु हैं। हम आत्मन या आत्मा हैं और भगवान शिव परमात्मा हैं जो सबसे बड़ी आत्मा और सर्वोच्च वास्तविकता हैं। ऐसे देवो के देव महादेव भगवान शिव को बारम्बार नमस्कार करते है |